Thursday, 10 December 2015

चलो गीत लिखें - Chalo Geet Likhe


चलो गीत लिखें - Chalo Geet Likhe




कण कण में प्रीत लिखें
वक्त रहा है बीत लिखें
बसंत बहार की बात करें
हेमंत शिशिर और शीत लिखें
चलो गीत लिखें

बारिश की बौछार पर
झरनों की धार पर
माँ के दुलार पर
इस सूंदर संसार पर
शब्दों का संगीत लिखें
चलो गीत लिखें


ना जिसमें रुसवाई हो
ना बेदर्द जुदाई हो
जरा सा ना गुरूर हो
नफरत कोसों दूर हो
ऐसी नई रीत लिखें
चलो गीत लिखें



चाँद जैसा रूप लिखें
सर्द ऋतू की धुप लिखें
लिखें नैनों को झील, पर
जो भी लिखें खूब लिखें
उन्हें मन का मीत लिखें
चलो गीत लिखें


प्रेम में तकरार कैसी
जीत कैसी हार कैसी
जिंदगी बनायें सूंदर
दुल्हन के श्रृंगार जैसी
हार को भी जीत लिखें
चलो गीत लिखें

Click here to read ""शायराना अंदाज - shayarana andaz" by Sri Shiv Sharma

जय हिन्द

...शिव शर्मा की कलम से...






9 comments: