Saturday, 2 January 2016

Achha Lagta Hai - अच्छा लगता है

अच्छा लगता है

नया साल आ गया । वक्त है, कब गुजर जाता है खबर ही नहीं लगती । और फिर ये तो जगत की रीत है, पुराना जाता है नया आता है । पुराना जाएगा तभी तो नया आएगा ना भैया । लेकिन अच्छा लगता है ।

हालांकि कोई भी दिन, जो एक लंबे अंतराल से आता हो, अच्छा लगता ही है ।

परंतु रोजमर्रा की जिंदगी में भी बहुत सी बातें, हमारी अनेकों हरकतें, ढेरों स्मृतियां और बहुत से पल ऐसे हैं, जिनमें हमें एक अद्भुत आनंद का अनुभव होता है । मन को अच्छा लगता है ।

इन सबको एक साथ समेटकर शब्दों के धागे से एक कविता के रूप में बाँधने का प्रयास किया है । अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें । क्योंकि "अच्छा लगता है ।"

         ******

अच्छा लगता है
जब अरसे बाद
कोई बिछड़ा यार मिल जाए
जब आंगन में कोई
नन्ही मुस्कान खिल जाए
दीवाली की सफाई के वक्त
पुराने कागजातों के बीच
दादाजी की वसीयत मिल जाए
अच्छा लगता है,



अच्छा लगता है
अकड़ू बॉस से तारीफ सुनना
रोज नए नए सपने बुनना
भाजी बाजार में
सब्जियों के ढेर में
घरवाली के साथ आलू चुनना
अच्छा लगता है,

दोस्तों की बातों पे ठहाके लगाना
दरवाजे को ढोलक की तरह बजाना
तनहाई के आलम में
प्यार भरा नगमा गुनगुनाना
और दूल्हे को
उसी की शादी में नचाना
अच्छा लगता है,

पुरानी तस्वीरों को देख
आँखे भिगोना
ख़ुशी के पलों में हँसते हुए रोना
शनिवार को देर रात तक
दोस्तों संग गप्पें लड़ाना
रविवार को देर तक सोना
अच्छा लगता है,

पतझड़ के बाद बहार
झुलसाती गर्मी में फुहार
हर हफ्ते का इतवार
दीवाली का सजा बाज़ार
करवा चौथ का हो या हो ईद का
उस चाँद का दीदार
अच्छा लगता है,

अपना काम दूसरे से करवाना
जहाँ मौका मिले धौन्स दिखाना
फटा नोट पूरी कीमत पर चलाना
घर के काम करो ना करो पर
बाजू वाले अंकल की
कार को धक्का लगाना
अच्छा लगता है,



रूठों को मनाना, अच्छा लगता है
बिन बात मुस्कुराना, अच्छा लगता है

आँखे मूंदे ज्यों ही करें किसी को याद
यकायक उनका आ जाना, अच्छा लगता है

समय की दुहाई क्यों दे हम जब
आपसे बतियाना अच्छा लगता है

मानो या न मानो, पर सच ये ही है
किसी को दिल में बसाना, अच्छा लगता है ।।

         *******



पता नहीं मैं कैसा लिखता हुं । आपको पसंद भी आता है या नहीं । मगर ना जाने क्यों, इस बहाने आप सब से मिलना मिलाना अच्छा लगता है ।

तो कल फिर मिलते हैं । अपना खयाल रखें । नववर्ष की पुनः एक बार आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं ।

Click here to read "Chalo Geet Likhe" by Sri Shiv Sharma


जय हिन्द

....शिव शर्मा की कलम से....


5 comments:

  1. अच्छा लगता है

    ReplyDelete
  2. बहूत बढ़िया जबाब नहीं इस लेख का

    ReplyDelete
  3. बहूत बढ़िया जबाब नहीं इस लेख का

    ReplyDelete