Sunday, 29 May 2016

Dar Lagta Hai - डर लगता है

Dont Break Me
(Image Source http://www.123rf.com/)

DAR LAGTA HAI 

 डर लगता है





जिस तेजी से जमाना बदल रहा है और हर कोई येन केन प्रकारेण बस एक दूसरे से आगे बढ़ने की ही हौड़ में लगा है, डर लगता है आने वाले वक्त में इस आगे बढ़ने की दौड़ में कहीं कुछ ऐसा पीछे ना छूट जाए की बाद में आदमी को एक तकलीफदेह पछतावा रहे ।

आज हर कोई एक दूसरे को शक की नजर से ही देखता है । पुरानी प्रीत ना जाने कहां खो गई । सैंकड़ों तरह के डर आदमी के मन में समाये हुए हैं । इसी को मद्देनजर रखते हुए एक ग़ज़ल लिखने का प्रयास किया है । आशा है आप की तारीफों का तोहफा जरूर मिलेगा ।

डर लगता है


हंसने हंसाने से डर लगता है,
कहीं आने जाने से डर लगता है,

भरोसा नहीं है किसी को किसी पर भी,
मतलबी इस ज़माने से डर लगता है,

डर लगता है डरावने काले अंधकार से,
जुगनुओं के जगमगाने से डर लगता है,

सुकूँ देती है बारिश की बरसती बूंदें,
बिजलियों के कड़कड़ाने से डर लगता है,

क्या पता कब कौन कैसे बुरा मान जाए,
भरी महफ़िल में मुस्कुराने से डर लगता है,

मुहब्बतों की जड़ें भी कमजोर हो गई,
प्रेम की पौध उगाने से डर लगता है,



(Image Source - https://drawception.com/game/AYjNCANSGM/thats-pretty-racist-man/)

टूट के बिखर ना जाए रिश्तों की कड़ियां,
दिल की बात जुबां पर लाने से डर लगता है,

दबे हैं बरसों से जो राज कहीं गहरे में,
छुपाने में डर लगता है, बताने से डर लगता है,

दीमक लग गई हौसलों के महलों में,
छतों को ऊंचा उठाने से डर लगता है,

बनते बनते भी अक्सर बिगड़ ही जाते हैं,
रोज नए ख़्वाब सजाने से डर लगता है,

तेवर कुछ ज्यादा ही तीखे हैं आफ़ताब के,
परिंदों को पंख फ़ैलाने से डर लगता है,

फिजाओं में घुल गया है ज़हर नफरतों का,
बच्चों को भी खिलखिलाने से डर लगता है,

देख कर हालात इस बेदर्द दुनिया के "शिव",
खुद से नजर मिलाने से डर लगता है ।।



जय हिन्द



***शिव शर्मा की कलम से***

आपको मेरी ये रचना कैसी लगी दोस्तों । मैं आपको भी आमंत्रित करता हुं कि अगर आपके पास भी कोई आपकी अपनी स्वरचित कहानी, कविता, ग़ज़ल या निजी अनुभवों पर आधारित रचनायें हो तो हमें भेजें । हम उसे हमारे इस पेज पर सहर्ष प्रकाशित करेंगे ।.  Email : onlineprds@gmail.com

धन्यवाद


Note : Images and videos published in this Blog is not owned by us.  We do not hold the copyright.




4 comments: