Thursday, 30 June 2016

Bhula Na Paoge

भुला ना पाओगे


अंदाज मुहब्बत का कुछ इस कदर रखता हुं
अपने चाहने वालों के दिलों में घर रखता हुं,


जो भी मिलता है अपना बना लेता है मुझे,
बस मुस्कुरा के बात करने का हुनर रखता हुं,

मशरूफ हो कर तुम कहीं भूल ना जाओ मुझे
नादां हुं, बेवजह ही दिल में ये डर रखता हुं,

खुदा मेरे अपनों की हर दुआ क़ुबूल कर लेना
यही तमन्ना ले तेरे सजदे में सर रखता हुं,

डरता हुं कभी मुझसे कोई चुरा ना ले कहीं
इसीलिए तुम्हें अपने दिल में छुपाकर रखता हुं,



बरक़रार रहे तुम्हारी जिंदगी की राहों में उजाले
रौशनी के लिए अपना जिगर जलाकर रखता हुं,

यकीं है कि तुम खुद का ख़याल रखते हो
फिक्र जरुरी तो नहीं, मगर रखता हुं,

चाहकर भी तुम कभी मुझे भुला ना पाओगे "शिव"
अपनी चाहत में इबादत सा असर रखता हुं ।।

            * * *

नमस्कार मित्रों । कल फिर मिलते हैं, एक नयी भावुक कहानी लेकर । तब तक के लिए अलविदा ।

Click here to read

जय हिन्द

***शिव शर्मा की कलम से***









आपको मेरी ये रचना कैसी लगी दोस्तों । मैं आपको भी आमंत्रित करता हुं कि अगर आपके पास भी कोई आपकी अपनी स्वरचित कहानी, कविता, ग़ज़ल या निजी अनुभवों पर आधारित रचनायें हो तो हमें भेजें । हम उसे हमारे इस पेज पर सहर्ष प्रकाशित करेंगे ।.  Email : onlineprds@gmail.com

धन्यवाद

Note : Images and videos published in this Blog is not owned by us.  We do not hold the copyright.







1 comment: