Monday, 9 November 2015

नाम अगर रख दें कुछ भी - Naam agar rrakh de kuchh bhi



नाम अगर रख दें कुछ भी



नाम अगर रख दें कुछ भी
उस नाम के गुण क्यों नहीं आते
आँखें नहीं जिनको बचपन से
नाम नयनसुख पा जाते

एक राम जो पिता की आज्ञा पर
सिया संग वनवास अपनाते है
एक आज के राम हो पत्नीवश
पिता को वनवास भिजवाते है


नाम अगर रख दें कुछ भी








श्री कृष्ण ने अवतार लिया
पापियों से मुक्ति दिलाने को
कुछ किशन आज के लगे हैं
बस खुद का माल बनाने को

राजा हरिश्चंद्र सत्यवादी ने
इसी धरा पर जन्म लिया
कल एक हरीश चंद्र ने
रिश्वत जैसा कर्म किया

नाम अगर रख दें कुछ भी


भगवान बुद्ध ने जहाँ हमें
पथ अहिंसा का दिखलाया
वहीँ कुछ बुद्धिमानों ने
देखो कई घरों को जलाया

खोज शुन्य की कर हमने
राह विकास की खोली थी
संस्कृति में हम अव्वल थे कभी
प्यारी मीठी बोली थी

क्या फिर जन्मेंगे बुद्ध यहाँ
क्या महावीर फिर आएंगे
क्या फिर से राम आकर यहाँ
मानवता हमें सिखाएंगे


नाम अगर रख दें कुछ भी

प्रदीप माने "आभास"
कानो (नाइजीरिया)



श्री प्रदीप माने, वर्तमान में नाइजीरिया में एक पाइप निर्माण करने वाले कारखाने में इंजीनियर के पद पर नियुक्त है । मूलतः ये मराठी भाषा में लिखते हैं और इनकी मराठी रचनाओं की एक किताब "रेशिमगाठी" आ चुकी है । अभी शुरुआत कर रहे है हिंदी में भी लिखने की । हम इनका इस मंच पर स्वागत करते है । आप सब का भी आशिर्वाद चाहिए ।


We are so proud to introduce our new writer, Mr. Pradeep Mane, an engineer by profession and working in Nigeria.  He usually write in Marathi Language and already a poetry book viz. "Reshim Gathi" in Marathi language has been published.  Here his attempt starts to write in Hindi Language.


We request all the users to go through his writings.  Kindly post your suggestions / comments on regular basis.  We seek your blessings.  We are very happy to start his blogs on this auspicious day "Dhanteras".  Happy Dhanteras to all of our readers.

नाम अगर रख दें कुछ भी

Click here to read - Mera Pahele Blog

With love,
Chief Editor - Shiv Bhagan Sharma


5 comments:

  1. Pradeep ji, Well written. We thank you for showing your interest to join our Hindi General Blogs. All the best.

    ReplyDelete
  2. Thanks Madhu ji & Santosh. This is my first poem in Hindi. Will try better surely

    ReplyDelete
  3. बहुत सूंदर शुरुआत । इसे जारी रखें ।

    ReplyDelete